Types of Vehicle insurance in Hindi

  1. थर्ड पार्टी इंश्योरेंस पॉलिसी: आपके वाहन से किसी अन्य वाहन, व्यक्ति या संपत्ति को जो नुकसान पहुंचता है, उसकी भरपाई Third-party insurance policy के माध्यम से होती है। ऐसी घटनाओं के बाद, मुआवजा निर्धारण के लिए, जो कानूनी प्रक्रियाएं होंगी, उनसे निपटने की जिम्मेदारी भी बीमा कंपनी की होती है।
    • थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के साथ आपको 15 लाख का Compulsory Personal Accident Insurance (अनिवार्य व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा) भी मिलता है। इससे वाहन मालिक की मौत या परमानेंट विकलांगता की स्थिति में 15 लाख रुपए तक मुआवजा मिलता है।
    • लेकिन ध्यान रहे, आपके खुद को वाहन को हुए नुकसान का मुआवजा थर्ड पार्टी इंश्योरेंस पॉलिसी से नहीं मिलता। इसके लिए आपको Own Damage Cover लेना पड़ता है, जोकि कंप्रिहेंसिव मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी लेने पर ही मिलता है।
  2. कंप्रिहेंसिव मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी: इसे संपूर्ण बीमा पॉलिसी भी कहते हैं। इसमें आपके वाहन से किसी दूसरे वाहन, व्यक्ति और संपत्ति को नुकसान का मुआवजा तो बीमा कंपनी भरती ही है, आपके खुद के वाहन को हुए नुकसान की भरपाई भी बीमा कंपनी करती है। यानी कि आपको Third party insurance और Own Damage Cover, दोनों का फायदा कंप्रिहेंसिव मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी से मिलता है। कंप्रिहेंसिव इंश्योरेंस लेने पर आपको कई प्रकार के Add On Covers (सहायक बीमा पॉलिसियां) भी जुड़वाने की सुविधा मिलती है।

विस्तार से जानने के लिए देखें:

वाहन की कैटेगरी के अनुसार इंश्योरेंस के प्रकार

वाहन की कैटेगरी के हिसाब से, वाहन बीमा तीन प्रकार के होते हैं।

  1. Car Insurance | कार बीमा
  2. Two Wheeler Insurance | दोपहिया वाहन बीमा
  3. Commercial Vehicle Insurance |  व्यावसायिक वाहन बीमा

अब तीनों के बारे में आइए थोड़ा विस्तार से जानते हैं—

कार इंश्योरेंस | Car Insurance

Car Insurance कराने पर, किसी हादसे की स्थिति में, वाहन को होने वाले नुकसान की भरपाई की सुविधा मिलती है। प्राकृतिक आपदा (natural calamities) या मानव जनित हादसे (man-made calamities) की स्थिति में भी वाहन को होने वाले नुकसान की भरपाई भी इस Insurance के तहत कवर होता है। बहुत सी कंपनियां अब कार बीमा के साथ, उसी के एक हिस्से के रूप में medical insurance भी उपलब्ध कराने लगी हैं।

Leave a Comment